मंगलवार, 23 फ़रवरी 2010

समग्र हिन्दी मुहावरे संग्रह

समग्र हिन्दी मुहावरे संग्रह
कंधे से कंधा छिलना, मुहावरा भारी भीड़ होना मेलों-ठेलों में यात्रियों के कंधे से कंधे छिलता है। 
ककड़ी-खीरा समझना, मुहावरा नगण्यभ या तुच्छय समझना मैं तुमसे निपट लूँगा, क्याम मुझे ककड़ी-खीरा समझ रखा है। 
कच्चाु चिट्ठा खोलना, मुहावरा सब भेद खोल देना मेरा हिस्साद दे दो,नहीं तो तुम्हाहरा सारा कच्चाा चिट्ठा खोल दूँगा। 
कच्चीह गोली खेलना, मुहावरा अनुभवहीन होना तुम उसे फुसला नहीं सकते । वह कच्चीी गोटी नहीं खेला है। 
कट जाना, मुहावरा शार्मिंदा होना तेरा मुहँतोड़ जवाब सुनकर वह कट गया।
कटे पर नमक छिड़कना , मुहावरा दु:खी को और दु:खी करना वह उदास बैठा है, ऊपर से उसे चिढ़ाते हो। कटे पर नमक मत छिड़को। 
कढ़ी का सा उबाल, मुहावरा मामूली जोश उत्सलवों पर हमारा उत्सााह कढ़ी का सा उबाल बनकर रह गया है।
कदम उखड़ना, मुहावरा भाग खड़े होना हमारी सेनाओं की मार से शत्रु सेना के कदम उखड़ने लगे। 
कन्नीा काटना, मुहावरा कतरा कर निकल जाना मेरा उधार देना है। जब इधर आता हे तो कन्नीद काटकर निकल जाता है। 
कमर कसना, मुहावरा तैयार हो जाना उन्होंहने कमर कस ली और हल चलाने निकल पड़े। 
कलम का धनी, मुहावरा अच्छाा लेखक निराला भी कलम के धनी थे। 
कलम तोड़ना, मुहावरा बढिया लिखना प्रसाद ने कामायनी क्याे लिखी,कलम तोड़ दी। 
कली खिलना, मुहावरा खुश होना तुम आ जाते तो मरे दिल की कली खिल जाती है।
कलेजा ठंडा होना, मुहावरा मन को शांति मिलना बेटा पास हो गया । मौं का कलेजा ठंडा हुआ। 
कलेजा धक से रह जाना, मुहावरा डर जाना रास्तेा में सॉंप देखा तो मेरा कलेजा धक से रह गया। 
कलेजा मुँह को आना, मुहावरा दु:ख होना मरीज़ की चीत्काोर का ध्याान आते ही कलेजा मुँह को आता है। 
कलेजा का टुकड़ा, मुहावरा बहुत प्याटरा बेटा मेरा प्याटरा बैटा मेरे कलेजे का टुकड़ा है। 
कलेजे पर सॉंप लोटना, मुहावरा डाह से कुढ़ना मेरी उन्नढति देखकर उसके कलेजे पर सॉंप लोटता है। 
कहा-सुनी होनी, मुहावरा झगड़ा होना मामूली –सी बात पर पड़ोसियों में कहा-सुनी हो गई। 
कॉंटा दूर होना, मुहावरा बाधा दूर होना उसका तबादला हो गया। उच्छाु हुआ कि मेरे रास्तेह का कॉंटा दूर हुआ। 
कॉंटे बिछाना, मुहावरा अड़चने पैदा करना चाहे उसने मेरी राह में जितने कॉंटे बिछाए पर मेरे लड़के का विवाह उसी घर में हुआ। 
कॉंटों पर लेटना, मुहावरा बेचैन होना रात को जब तक भाई नहीं आया मैं कॉंटों पर लोटता रहा। 
कॉंटों पर घसीटना, मुहावरा संकट में डालना भाई, तुम आपस में फैसला कर लो। मुझे कॉटों में मत घसीटो। 
कागजी घोड़े दौड़ना, मुहावरा केवल लिखा-पढ़ी करते रहना कागजी घोड़े दौड़ाने से काम नहीं बनेगा। जाकर उससे सीधे बात कर लो। 
काजल की कोठरी, मुहावरा कलंक लगने का स्था न वेश्याी मंडी काजल की कोठरी है । उधर जो जाएगा बदनामी तो होगी। 
काठ का उल्लूय, मुहावरा महामूर्ख उसे क्याल समझाए, बिनकुल काठ का उल्लूा है। 
काठ मार जाना, मुहावरा हमप्रभ हो जाना भूकंप में आहत कई लोग कुछ भी बोल नहीं पाते थे, जैसे काठ मार गया हो।
कान कतरना, मुहावरा मात करना चापलूसी में वह बड़े-बड़े खुशामदियों के कान कतरता है। 
कान खड़े होना, मुहावरा चौकन्नाे  होना डाकुओं की ललकार से उसके कान खड़े हो गए। 
कान खोलना, मुहावरा सावधान  कर देना कान खोलकर सुनो। 
कान गरम करना, मुहावरा पीटना शरारत करोगे तो तुम्हाारे कान गरम कर दूँगा। 
कान देना, मुहावरा ध्यादन से सुनना जरा इधर कान दो तो एक बात कहूँ। 
कान पकड़ना, मुहावरा गलती मान लेना मैं कान पकड़ता हूँ आइंदा ऐसी भूल नहीं करूँगा। 
कान पर जूँ तक न रेंगना, मुहावरा कुछ भी परवाह न करना बहुत समझाया पर उसके कान पर जूँ तक नहीं रेंगी। 
कान भरना, मुहावरा चुगली करना पता नहीं किसने उसका कान भर दिया है। वह मेरी सुनता ही नहीं। 
कान में डाल देना, मुहावरा सुना देना विन्ताे नहीं करों मैंने यह बात उसके कान में डाल दी है। 
कान में तेल डाले बैठना, मुहावरा सुनकर भी ध्या न न देना मैंने बहुत कहा पर वह कान में तेल डाले बैठा रहा। 
कान में फूँकना, मुहावरा चुपके से कह देना न जाने किसी ने उसके कान में क्याव फूँक दिया कि वह नाक-भौं चढ़ाता बाहर निकल गया। 
कान लगाना, मुहावरा ध्यालन देना कान लगाकर सुन लो। 
काफूर होना, मुहावरा गायब हो जाना दवा लेते ही मेरा दर्द काफूर हो गया। 
काम आना, मुहावरा शत्रु के हाथों मारा जाना देश की रक्षा करते हुए सैकड़ों जवान रण में काम आए। 
काम तमाम करना, मुहावरा मार डालना तलवार के एक ही वार में उसने शत्रु का काम तमाम कर दिया।  
काया पलट जाना, मुहावरा और ही रूप हो जाना पॉंच वर्ष में ही गॉंव का काया पलट हो गया। 
काल कवलित होना, मुहावरा मर जाना भूकंप में कई हज़ार आदमी काल कवलित हो गए। 
काल के गाल में जाना, मुहावरा मर जाना भूकंप में कई हज़ार आदमी काल के गाल में समा गए। 
काला नाग , मुहावरा खोटा या घातक व्यहक्ति ऐसे आदमी से बचकर रहना, काला नाग है। 
काला मुँह करना, मुहावरा बुरा करना उस बूढ़े ने इस उम्र में शादी करके अपना मुँह काला कर लिया। 
काले कोसों, मुहावरा बहुत दूर जवानों को कश्मीउर में काले कोसों न जाने कहॉं तैनात किया गया है। 
किताबी कीड़ा होना, मुहावरा केवल पढ़ने में लगे रहना वह तो किताबी कीड़ा है। किसी खेल कूद में रूचि नहीं रखता।
किरकिरा हो जाना, मुहावरा विघ्नर पड़ना बारिश हो जाने से पिकनिक का सारा मज़ा किरकिरा हो गया। 
किस दर्द या मर्ज़ की दवा, मुहावरा किस काम का  न यह कर सकते हो न वह कर सकते हो । आखिर किस मर्ज की दवा हो।
किस्मकत फूटना, मुहावरा बुरे दिन आना जिस काम में हाथ डालता हूँ सफलता नहीं मिलती मेरी तो किस्मात ही फूट गई है। 
कीचड़ उछालना, मुहावरा निंदा करना उसका जो काम ही है लोगों पर कीचड़ उछालना।  
कुऑं खोदना, मुहावरा किसी को हानि पहुँचाने का यत्न  करना जो दूसरों के लिए कुऑं खोदता है । वह स्व।यं उसी में गिरता है। 
कुऍं में गिरना, मुहावरा विपत्तीं में पड़ना उस दुष्ट‍ का साथ नहीं छोड़ोगे तो कुऍं में गिरोगे। 
कुऍं में भॉंग पड़ना, मुहावरा सबकी बुद्धि मारी जाना किस-किस को समझाया जाए, यहॉं तो कुऍं में भॉंग पड़ी है। 
कुछ उठा न रखना, मुहावरा कोई कसर न छोड़ना हमने दादाजी के ईलाज में कुछ उठा न रखा है। 
कुत्तेा की दुम, मुहावरा वैसे का वैसा वह कुत्तेै का दुम है कभी नहीं सुधरेगा। 
कुत्ते् की मौत मारना, मुहावरा बुरी तरह मरना हत्यातरा कुत्तेा की मौत मरा। किसी ने पानी तक नहीं पूछा। 
कूच कर जाना, मुहावरा चले जाना अंग्रेज भारत से कूच कर गए। 
कूप मंडूक, मुहावरा सीमित ज्ञान/अनुभव वाला मनोहर तो कूप मंडूक है । वह तो बस शाब्दिक अनुवाद ही जानता है। 
कोई दम भर का मेहमान होना, मुहावरा मरने के करीब होना डॉक्टकर ने कह दिया है कि वह कोई दम भर का मेहमान है।
कोढ़ में खाज होना, मुहावरा दु:ख पर और दु:ख होना लड़का खो गया। उसकी मॉं बेहोश पड़ी है।–कोढ़ पर खाज । 
कोर दबना, मुहावरा दबाव में होना बड़े भाई के सामने वह कुछ नहीं बोल सकता, उसकी कोर दवती है। 
कोल्हूा का बैल, मुहावरा कड़ी मेहनत करते जुटा रहने वाला जब देखो कुछ लिख रहा है, है ही कोल्हू  का बैल। 
कौए उड़ाना, मुहावरा घटिया काम करना कोई कमाई का धंधा करो, कब तक कौए उड़ाते रहोगे। 
कोड़ी-कौड़ी पर जान देना, मुहावरा कंजूस होना लाला कौड़ी-कौड़ी पर जान देता है, शादी पर इतना खर्च कैसे करेगा। 
खटाई पड़ना, मुहावरा टल जाना पैसे की कमी के कारण ग्राम –सुधार की योजना खटाई में पड़ गई है। 
ख्या ली पुलाव पकाना, मुहावरा व्यार्थ कल्पवना करना साधन तो है नहीं1 योजना बनाने का क्याज लाभ ? ऐसे ख्या ली पुलाव काने से क्याह होगा ?
ख़ाक छानना, मुहावरा मारा-मारा फिरना कोई काम-धंधा नहीं मिला तो ख़ाक छानते फिरते हैं। 
ख़ाक में मिलाना, मुहावरा नष्ट  करना मनोहर ने उसके पिता की इज्जमत ख़ाक में मिला दी। 
खिचड़ी पकाना, मुहावरा अंदर-अंदर षड्यंत्र रचना चुनाव में मेरे विरोधी क्यार खिचड़ी पकाते हैं। 
खुले हाथ, मुहावरा उदारता से रामू शाह ऐसे कामों के लिए खुले हाथ दान देते हैं। 
खूँटे के बल कूदना, मुहावरा कोई सहारा मिलने पर अकड़ना तुम जिस खूँटे के बल कूद रहे हो,उसे भी मैं समझ लूँगा। 
खून का घूँट पीना, मुहावरा गुस्सा  पचा जाना गुंडों की गालियॉं सुनकर भी वह खून का घँट पीकर रह गया। 
खून खुश्क  होना, मुहावरा भयभीत होना आतंकवादियों की गोलियों की आवाज़ सुनकर घरवालों का खून खुश्क। हो रहा था। 
खून खौलना/उबलना, मुहावरा जोश आना सेनापति की ललकार और उनका भाषण सुनकर जवानों का खून खौलने लगा। 
खून-पसीना एक करना, मुहावरा कड़ी मेहनत करना बाप ने खून –पसीना एक करके कमाया , बेटों ने सब नष्ट  कर दिया। 
खेत आना/रहना, मुहावरा रणभूमि में मारा जाना चीन की लड़ाई में हमारे सैकड़ों जवान खेत रहे। 
खेल खेलना, मुहावरा परेशान करना कई दिन से तुम्हा रा ही चक्कखर लगा रहा हूँ, कब तक खेल खेलाते रहोगे। 
गंगा नहाना, मुहावरा कठिन कार्य पूरा होना बेटी की शादी हो गई ,गंगा नहाए। 
गठरी मारना, मुहावरा सामान चुरा लेना स्टेनशन पर लड़के रोज एक –आध की गठरी मार लेते हैं। 
गड़े मुरदे उखाड़ना, मुहावरा पुरानी बात फिर से उजागर करना अब गड़े मुरदे उखाड़ने से क्याु लाभ। आगे की सोचो। 
गढ़ जीतना, मुहावरा बहुत कठिन काम करना मकान बन गया।समझो कि गढ़ जीत लिया। 
गले का हार होना, मुहावरा बहुत प्याररा होना  छोटा बच्चा  मौं-बाप के गले का हार है। 
गले पड़ा ढोल बजाना, मुहावरा सिर पर पड़ी जिम्मे दारी को मजबूरन पूरा करना मैं एस्कारर्ट ड्यूटी नहीं लेना चाहता था पर अब तो गले पड़ा ढोल बजाना पड़ेगा। 
गले मढ़ना, मुहावरा जबरदस्ती सौंपना इतनी भारी जिम्मे दारी मेरे गले क्योंथ मढ़ते हो। 
गहरा हाथ , मुहावरा बहुत कुछ हथिया लेना तुमने मौसी की संपत्ति पर गहरा हाथ मारा है। 
गॉंठ का पूरा, मुहावरा मालदार धन्नार है तो गांठ का पूरा, पर बिलकुल बुद्धू।  
गॉंठ में बॉंधना, मुहावरा खूब याद रखना मेरी बात गॉंठ बॉंध लो । आते वक्तव तरकारी लानी है। 
गागर में सागर भरना, मुहावरा थोड़े में बहुत कुछ कहना आचार्य ने अपने इस निबंध में गागर में सागर भर दिया है। 
गाजर मूली समझना, मुहावरा तुच्छम समझना तुमने क्यास मुझे गाजर मूली समझ रखा है। 10 साल की नौकरी कर चूका हूँ।
गाढ़े का साथी, मुहावरा संकट का साथी तुम्हाारे जैसे मेरे गाढ़े के साथी हैं तभी तो इस मुसीबत को भी सह लूँगा।  
गाल फुलाना, मुहावरा रूठना मैं क्या  करूँ, ज़रा-ज़रा सी बात पर गाल फुला लेता है। 
गाल बजाना, मुहावरा डींग हॉंकना किस बल-बूते गाल बजाते फिरते हो।
गिन-गिन कर पैर /कदम रखना, मुहावरा बहुत सावधानी से बढ़ना खबरदार रहना और जो काम करो,गिन-गिनकर कदम रखो। 
गिरगिट की तरह रंग बदलना, मुहावरा एक रंग-ढंग न रखना आज यों कहते हों, कल कुछ और कह रहे थे। परसो और तुम तो रोज़ गिरगिट की तरह रंग बदलते हो।
गीदड़ भभकी, मुहावरा दिखावटी धमकी वह तुम्हेंक जानते हैं। इसलिए तुम्हाेरी गीदड़ भभकी से नहीं डरते हैं। 
गुड़ गोबर कर देना, मुहावरा बना-बनाया काम बिगाड़ देना पिकनिक तो अच्छान चल रहीं थी लेकिन एक लड़के ने झगड़ा पैदा करके गुड़ गोबर कर दिया। 
गुदड़ी का लाल होना, मुहावरा गरीबी में भी गुणवान होना यह भिखमंगा भारी कलाकार है, यों कहो कि गुदड़ी में लाल है। 
गुल खिलाना, मुहावरा कोई बखेड़ा खड़ा करना  बड़ा फ़सदी आदमी है । रोज कोई न कोई नया गुल खिलाता रहता है।
गुस्सा़ पी जाना, मुहावरा क्रोध रोकना बात तो गुरी लगी पर मैं गुस्सा  पी गया और चुप रहा। 
गूँगे का गुड़ होना, मुहावरा अनुभव को प्रकट न कर पाना प्रेम रस गूँगे का गुड़ है, जो इसे चखता है वही जानता है। 
गूलर का फूल, मुहावरा दुर्लभ वस्तुग शुद्ध घी अब गूलर का फूल बन गया है। 
गेहूँ के साथ घुन पिस जाना, मुहावरा दोषी के साथ निर्दोष का भी अहित हो जाना किसी के झगड़े में मत पड़ो क्योंहकि गेहूँ केसाथ घुन भी पिस जाता है। 
गोटी बैठाना, मुहावरा युक्ति सफल होना इस लड़के ने मास्ट र केसाथ ऐसी गोटी बिठाई कि कक्षा में प्रथम आ गया।
गोबर गणेश , मुहावरा बिलकुल बुद्धू  कुछ भी नहीं समझ पाता है, बिलकुल गोबर गणेश है जगभाई । 
गोल कर जाना , मुहावरा गायब कर देना  इधर-उधर की बातें बहुत करता रहा, पर मेरे प्रश्नभ का उत्त र गोल कर गया। 
घडिया गिनना , मुहावरा  बेचैनी से प्रतीक्षा करना  डॉक्टीर ने जवाब दे दिया। अब घरवाले मौत की घडियॉं गिन रहे हैं।   
घड़ों पानी पड़ जाना , मुहावरा बहुत शर्मिंदा होना मैंने जब उसे रंगे हाथ पकड़ा तो उस पर घड़ों पानी पड़ गया। 
घर काटे खाना, मुहावरा अकेलापन अखरना  पत्नीे के मरने के बाद घर काटे खाता है। 
घर का न घाट का , मुहावरा कहीं का नहीं  न माया मिली न राम, रंगनाथ घर का रहा न घाट का। 
घर फूँक तमाशा देखना, मुहावरा अपनी हानि करके मौज उड़ाना मनोहर बिलकुल मुर्ख है जो अपना घर फूँक तमाशा देख रहा है।
घर में गंगा बहना, मुहावरा अच्छी  चीज पास ही में मिल जाना तुम्हाबरे ही चार –चार भैंसें हैं, दूध की इफरात है। धर मेंगंगा बहती है।
घाव पर नमक छिड़कना, मुहावरा दु:खी को और द1:खी करना गुस्सेा होते हो और व्यं ग्यन करके मनोहर के घाव पर नमक छिड़कते हो। 
घाव हरा करना, मुहावरा भूले हुए दु:ख की याद दिलाना मेरे स्व र्गीय भाई की चर्चा छेड़कर तुमने मेरा घाव हरा कर दिया। 
घास काटना, मुहावरा फूहड़ काम करना यह क्याा, घास काटते हो कि पालिश कर रहे हो। 
घास छीलना, मुहावरा व्य र्थ समय गवॉंना काम पूरा नहीं हुआ इतने दिन क्या  करते रहे ? घास छीलते रहे।
घिग्घीर बँधना, मुहावरा स्प्ष्टँ बोल न सकना वरिष्ठर अधिकारियों द्वारा स्पाष्टीहकरण मॉंगे जाने पर मनोहर की घिग्घीग बँध गई।  
घी के दिये जलना, मुहावरा आनंद मंगल होना कल तक बेचारा दाने-दाने को तरस रहा था। आज उसके घर में घी के दिए जलते हैं। 
घी खिचड़ी होना, मुहावरा खूब मिल- जुल जाना पड़ोसियों को घी खिचड़ी होकर रहना चाहिए। 
घोंघा बसंत, मुहावरा मूर्ख मनोहर को लाभ – हानि की कुछ समझ नहींहै वह बिलकुल घोंघा बसन्त  है। 
घोड़े बेचकर सोना, मुहावरा निश्चिंत हो जाना लड़के की शादी हो गई । अब वह घोड़े बेचकर सोता है। 
जंगल में मंगल होना, मुहावरा उजाड़ में चहल-पहल होना यहॉं वार्षिक मेला लगता है जोजंगल में मंगल हो जाता है। 
जड़ों में तेल/मट्ठा देना/जड़ खोदना/काटना, मुहावरा समूल नष्ट  करना चाणक्यष ने नंदवंश की जड़ खोद दी। 
ज़बान काट कर देना, मुहावरा वादा करना जब ज़बान काट कर दे दी है तो निभाएंगे अवश्य़ 
ज़बान पर चढ़ना, मुहावरा याद आना उसका नाम इस समय मेरी जबान पर नहीं चढ़ रहा है। 
ज़बान पर लगाम न होना, मुहावरा बेमतलब बोलते जाना इस तरह की बातें नहीं करनी चाहिए, तुम अपनी ज़बान में लगाम क्योंप नहीं देते। 
ज़मीन आसमान एक करना, मुहावरा सब उपाय कर डालना बाप ने लड़के को बचाने के लिए जमीन आसमान एक कर दिया। 
ज़मीन असामान का फर्क, मुहावरा बहुत भारी अंतर इस कमरे और उस कमरे में जमीन आसमान का फर्क है। 
ज़मीन पर पैर न रखना, मुहावरा  अकड़कर चलना जब से नोकरी पर लगा है तब से वह ज़मीन पर उसके पैर नहीं पड़ रहे हैं।  
ज़मीन में गड़ना, मुहावरा लज्जा  से सिर नीचा होना मनोहर की करतूतों का किस्सा  सुना तो मैं जमीन में गड़ गया ।
जलती आग में घी डालना, मुहावरा और भड़काना रूठे हुए लड़कों को डॉट-डपट कर तुमने जलती आग में तेल डाल दिया।
जली-कटी सुनाना, मुहावरा बुरा-भला कहना जब मनोहर ने व्यंकग्य  किया तो संतोष ने उसे जली-कटी सुना दी। 
ज़हर उगलना, मुहावरा कड़वी बातें कहना कट्टरपंथी सदैव दूसरों पर ज़हर उगलते रहते हैं। 
ज़हर की पुडि़या, मुहावरा झगड़ालू औरत उसे नहीं छेड़ो। वह जहर की पुडि़या है।  
ज़हाज का कौआ/पंछी, मुहावरा जिसका कोई ठिकाना नहीं हेनाथ , मेरे तो एक तुम्हीु हो, मैं इसी ज़हाज का पंछी हूँ। 
जान के लाले पड़ना, मुहावरा संकट में पड़ना इस महँगाई में गरीबों को जान के लाले पड़े हैं। 
जान पर खेलना, मुहावरा प्राणें की बाजी लगाना देश की रक्षा में हमारे जवान जान पर खेल जाते हैं। 
जान में जान आना, मुहावरा चैन मिलना खेया अुआ लड़का मिल गया तो मॉं की जान में जान आई। 
जान से हाथ धोना बैठना, मुहावरा मारा जाना दंगे में चार आदमी अपनी जान से हाथ धो बैठे। 
जान हथेली पर रखना, मुहावरा प्राणों की परवाह न करना सेना के जवान जान हथेली पर रखकर मैदान में कूद पड़े। 
जामे से बाहर होना, मुहावरा अति क्रुद्ध होना मनोहर को रंगनाथ कहो तो वह जामें से बाहर हो जाता है। 
जी का जंजाल, मुहावरा व्यकर्थ का झंझट यह ड्यूटी मेरे जी का जंजाल बन गई है। 
जी खट्टा होना, मुहावरा विरति होना घर की कलह से उसका जी खट्टा हो गया है।
जी चुराना, मुहावरा काम करने से कतराना मनोहर सौंपे गए कार्य को निष्पागदित करने से जी चुराता है। 
जीती मक्खीे निगलना, मुहावरा जानते हुए भी अशोभन कार्य करना इस निर्दोष के विरूद्ध गवाही दूँ। मुझसे यह जीती मक्खीत नहीं निगली जाएगी। 
जी पर आ बनाना, मुहावरा मुसीबत में फँस जाना अब जी पर आ बनी है और नहीं सहा जाता। 
जी भर आना, मुहावरा दु:खी होना उसकी मृत्युब का समाचार सुनकर मेरा जी भर आया। 
जूतियों में दाल बॉंटना, मुहावरा लड़ाई- झगड़ा होना पहले गाली –गलोज हुई अब जूतियों में दाल बटने शुरू हो गए हैं।
जूतियॉं/जूते चाटना, मुहावरा चापलूसी करना अपना मतलब निकालने के लिए मनोहर साहब के जूते चाटने को भी तैयार रहता है। 
जोड़-तोड़ करना, मुहावरा उपाय करना बेटे को पास कराने के लिए मनोहर जोड़-तोड़ करता रहता है। 
झाड़ू फेरना, मुहावरा नष्टू करना मनोहर ने उसकी सारी मेहनत पर झाड़ू फेर दिया। 
टका सा जवाब देना, मुहावरा साफ़ इंकार करना मैंने उधार मॉंगा उसने टका सा जवाब दे दिया। 
टका सा मुँह लेकर रह जाना, मुहावरा लज्जित हो जाना  जब मैंने मनोहर की पोल खोली तो वह टका सा मुँह लेकर रह गया। 
टट्टी की आड़ में शिकार खेलना, मुहावरा  दिपे-छिपे किसी के विरूद्ध कुछ करना टट्टी की आड़ में शिकार खेलना मनोहर की आदत है। 
टट्टू पार होना, मुहावरा काम निकल जाना मैं चाहता हूँ किसी तरह मेरा टट्टू पार हो जाए। 
टॉंग अड़ाना, मुहावरा बाधा पैदा करना हर मामले में टॉंग अड़़ाना ठीक नहीं है। 
टॉंग तले से निकलना, मुहावरा हार मनवाना तुम्हेव टॉग तले न निकालूँ तो मुझे राजपूत का बेटा न समझना। 
टॉंय-टॉंय फिस होना, मुहावरा काम बिगड़ जाना कारखाना लगाने की योजना चल रही थी । सरकार की नामूजूरी से सब टॉंय-टॉंय फिस हो गया। 
टाट उलटना, मुहावरा दिवाला निकलना सेठ जी ने टाट उलटा तो कई लोगों के ऋण के पैसे डूब गए। 
टेढ़ी खीर, मुहावरा कठिन काम  हिमालय की चोटी पर चढ़ना टेढ़ी खीर है।
ठन-ठन गोपाल, मुहावरा खोखला सब ऊपरी दिखावा है। भीतर से ठन-ठन गोपाल है । 
ठीकरा फोड़ना, मुहावरा दोष मढ़ना अपनी गलती का ठीकरा मनोहर ने अधीनस्थोंर पर फोड़ दिया।  
डंका बजना, मुहावरा ख्या ति होना भारतियों के बुद्धी का डंका पूरे विश्वर में बजता है।  
डकार जाना, मुहावरा माल पचा जाना कंपनी का पैसा मनोहर अकेले ही डकार गया।
डाढ़ी पेट में होना, मुहावरा छोटी उम्र में ही बहुत ज्ञान होना बच्चाउ है पर इसके डाढ़ी पेट में है। 
डेढ़ चावल की खिचड़ी पकाना, मुहावरा बहुमत से अलग रहना वह सदा अपनी डेढ़ चावल की खिचड़ी पकाता है। 
डेढ़ बीता कलेजा, मुहावरा अत्य धिक साहस दिखाना भूकंप पीडि़तो की सहायता करने वाले स्व यंसेवक डेढ़ बीता कलेजा करके जाते हैं। 
डोरे डालना, मुहावरा प्रेम में फँसाना यह नड़का उस लड़की पर डोरे डाल रहा है। 
ढाई दिन की बादशाहत, मुहावरा थोड़े दिन की मौज़ बहार वह नहीं समझता कि ढाई दिन की बादशाहत है, फिर वही हालत हो जाएगी। 
ढि़ढोरा पीटना, मुहावरा सब को बताना वह अपने तक बात सीमित न रखकर ढींढोरा पीट रहा है। 
तख्तान उलटना, मुहावरा सरकार बदलना एक फौजी जनरल ने उस देश का तक्ष्ताु उलट दिया। 
तलवा खुजलाना, मुहावरा यात्रा करने को होना मेरे तलवे खुजला रहे हैं, कही जाना पड़ेगा। 
ताक पर धरना/रखना, मुहावरा हटा देना अपनी योजनाताक पर रख दो। यह नहीं चलेगी। 
तार-तार होना, मुहावरा पूरी तरह फट जाना घिसते फटते अब उसकीधोती तार-तार हो गई है। 
तारे गिनना, मुहावरा रात को नींद नहीं आना उस दुखिया ने रात तारे गिनते हुए काट दी। 
तालू से जीभ न लगना, मुहावरा बोलते रहना उस औरत की तो तालू से जीभ ही नहीं लगती । 
तिल का ताड़ करना, मुहावरा छोटी बात को बढ़ा देना मनोहर ने किताब खोने की बात को तिल का ताड़ बना दिया । 
तीन तेरह करना, मुहावरा तितर-बितर करना  नालायक बेटों ने बाप की सारी सम्पलत्ति तीन –तेरह कर दी। 
तीन –पॉंच करना , मुहावरा टाल-मटोल करना यह काम आज ही होना चाहिए, तीन –पॉंच नहीं करना। 
तूती बोलना, मुहावरा रोब जमना सत्ताम के गलियारों में युवा सांसदों की तूती बोलती है। 
तेल की कचौडि़यों पर गवाही देना, मुहावरा सस्तेी में काम करना आप कुल दो सौ रूपये में बच्चे  को ट्यूशन कराना चाहते हैं, तेल की कचौडि़यों पर गवाही कौन देगा। 
तेली का बैल होना, मुहावरा हर समय काम में लगे रहना मैं जब भी आता हूँ देखता हूँ कि तेली के बैल की तरह काम करते रहते हो। 
तेवर चढ़ाना, मुहावरा गुससा होना अजीब मिज़ाज का आदमी है, जब देखों तेवर चढ़ाए रहता है।
त्रिशंकु होना, मुहावरा अधर में लटकना इम न इधर के रहे न उधर के हुए, त्रिशुकु होकर रह गए। 
थूक कर चाटना, मुहावरा वचन से फिरना कभी तो अपनी ज़बान पूरी किया करो, सदा देखा है कि तुम थूक कर चाट लेते हो। 
दमड़ी के तीन होना, मुहावरा सस्ते  होना वह जमाना गया जब दमड़ी के तीन होते थे। 
दमड़ी के लिए चमड़ी उधेड़ना, मुहावरा मामूली से बात के लिए भारी दंड देना एक कलम तोड़ने पर 1000 रू. का जुर्माना। आप तो दमड़ी के लिए चमड़ी उधेड़ रहे हैं। 
दम ीारना, मुहावरा दावा करना वे जो मित्रता का दम भरतें थे, वक्तक पड़ने पर गायब हो गए। 
दॉंत काटी रोटी, मुहावरा घनिष्ठा मित्रता कपिल और संतोष में दॉंत काटी रोटी है। 
टॉंत खट्टे करना, मुहावरा हरा देना भारतीय सैनिकों ने तीनों युद्धों में पाकिस्ताकनियों के दॉंत खट्टे कर दिए।
दॉंत तालू में जमना, मुहावरा बुरे दिन आना करूा तुम्‍हारे दॉंत तालू में जम गए हैं । हमसे इतनी धृष्ट ता से बात करते हो। 
दाई से पेट छिपाना, मुहावरा जानकार से बात छिपाना कहते हो उसे कुछ न बताना, भला दाई से पेट कैसे डिपाऊँ। 
दॉंत पीसकर रह जाना, मुहावरा क्रोध रोक लेना मनोहर ने बहुत सताया पर मैं दॉंत पीसकर रह गया। 
दॉंतो तले उँगली दबाना, मुहावरा आर्श्चाय चकित होना ताजमहल में उत्कीकर्ण कारीगरी को दखते ही लोग दॉंतों तले उँगली दबा बैठे।
दाल जूतियों में बटना, मुहावरा अनबन होना बच्चोंो की लइ़ाई हुई पर पड़ोसियों में दाल जूतियों में बटने लगी। 
दाल न गलना, मुहावरा बस न चलना वरिष्ठग अधिकारियों के सामने मनोहर की दाल न गली। 
दाल में काला होना, मुहावरा शक –शुबह होना दाल में कुछ काला है, तभी तो वह कार्यालय नहीं आ रहा है। 
दिन –दूनी रात चौगुनी होना, मुहावरा बहुत तीव्र गति से वृद्धि हमारा देश दिन–दूनी रात-चौगुनी प्रगति करे यही मेरी ईश्व र से प्रार्थना है।
दिन पहाड़ होना, मुहावरा दिन काटे न कटना आज कुछ भी काम नहीं था, दिन पहाड़ हो गया । 
दिनों का फेर होना, मुहावरा भाग्य  का चक्क र  कल क्याा थे, आज क्या  हो गए। दिनों का फेर है। 
दिमाग आसमान पर चढ़ना, मुहावरा बहुत घमंड होना जब से लाटरी निकली है1 तब से इसका दिमाग आसमान पर चढ़ गया है। 
दिल का गुबार(बुखार) निकालना, मुहावरा दबा भाव प्रकट करना जब भाई ने रूठने का कारणपूछा तो उसने खुलकर अपने दिन का बुबार निकाल दिया। 
दिल के फफोले तोड़ना, मुहावरा कुढ़कर जली-कटी बातें कहना बेचारा रोज़-रोज़ ताने सुनता रहा।आखिर एक दिन दिल के फफोले तोड़ दिए। 
दिल भर आना, मुहावरा शोकाकुल होना मित्र की मौत का समाचार सुनकर उसका दिल भर आया। 
दिल मसोसकर रह जाना, मुहावरा मन में खीझकर रह जाना रमेश ने मेरे सामने मेरी किताब फाड़ डाली और मैं मन मसोसकर रह गया। 
दूज का चॉंद होना, मुहावरा बहुत दिनों बाद दिखाई देना अरे, कहॉं रहे इतने दिन, तुम तो दूज का चॉंद हो गए। 
दुध का धुला/धोया होना, मुहावरा निर्दोष या निष्क/लंक होना सब नेता ऐसे ही हैं, दूध का धुला कोइ्र विरला ही होगा। 
दूध का दूध और पानी का पानी करना, मुहावरा उचित निर्णय करना पंचों ने हरि के मामले में दूध का दूध और पानी का पानी कर दिया। 
दूध के दॉंत न टूटना, मुहावरा ज्ञान और अनुभव न होना बिलकुल बच्चाभ है , अभी दूध के दॉंत नहीं टूटे हैं। 
दूर की कौड़ी लाना, मुहावरा दूर की सोच लेना एयसका सुझाव सब को पंसद आया। कहने लगे पह कैसे दूर की कौड़ी ले आया। 
देवता कूच कमर जाना, मुहावरा घबरा जाना मालिक ने डॉंटा-फटकारा तो नौकर के देवता कूच कर गए।
दो टूक बात कहना, मुहावरा थोड़े में साफ-साफ कहना मकान किराये के संबंध में मैंने उससे दो टूक बात कह दी। 
दो दिन का मेहमान, मुहावरा जल्दीन मरनेवाला मरीज़ की हालत खराब है, बस दो दिन का मेहमान है। 
दो नावों पर पैर रखना, मुहावरा दोनों तरफ रहना दो नावों पर पैर रख्नेल वाला कभी सफल नहीं हो सकता है। 
धज्जियॉं उड़ाना, मुहावरा दुर्गति करना सैनिकों ने दुश्म न के टैंकों की धज्जियॉं उड़ा दी। 
धूप में बाल सफेद करना, मुहावरा अनुभवहीन होना मैं यह सब कुछ कर लूँगा , कोई धूप में बाल सफेद नहीं किया हूँ। 
नकेल हाथ में होना, मुहावरा बस में होना आपका काम अवश्यो हो जाएगा। एसकी नकेल मेरे हाथों में है। 
नब्ज  पहचानाना, मुहावरा स्वजभाव जानना मैं उसकी नब्ज़न पहचानता हूँ। देख लेना वह तुम्हाकरा काम करेगा नहीं।
नमक मिर्च लगाना, मुहावरा बढ़ा-चढ़ाकर कहना ज़रा सी बात थी । लड़की ने नमक मिर्च लगकर उसकी शिकायत कर दी। 
नस-नस फड़क उठना, मुहावरा बहुत उत्सातहित होना देश गान सुनकर जवानों की नस5नस फड़क उठती है। 
नस पहचानना, मुहावरा अच्छीा तरह जानना मेरे समाने मत बनो। मैं तुम्हाुरी नस पहचानता हूँ। 
नहले पर दहला मारना, मुहावरा करारा जवाब देना क्याा याद करेगा, मैंने उसके नहले पर देहला मार दिया। 
नाक कटना, मुहावरा बदनामी होना शर्त हार गए तो नाक कट जाएगी। 
नाक का बाल होना  बहुत प्यालरा होना आजकल देल मंत्री प्रधान मंत्री की नाक का बाल बने हुए हैं। 
नाक चोटी काटकर हाथ में देना, मुहावरा दुर्दशा करना उसने गालियॉं दी तो इसने उसकी नाक चोटी काट कर हाथ में दी। 
नाक भौं चढ़ाना, मुहावरा घृणा या असंतोष प्रकट करना दहेज देख्कंर समधिन नाक –भौं चढ़ाने लगी। 
नाक में नकेल डालना, मुहावरा वश में करना पत्नीं ने उसकी नाक में नकेल डाल रखी है जो चाहती है मनवा लेती है। 
नाक रगड़ना, मुहावरा गिड़गिड़ाना उसने साहब के आगे नाक रगड़ी, मिन्नै की, पर वे नहीं माने। 
नाकों चने चबवाना, मुहावरा बहुत तंग करना उसकी पत्नीच उसे नाकों चने चबवाती है। 
नाच नचाना, मुहावरा मनचाही करवाना उसकी पत्नीा पति को खूब नाच नचाती है। 
नानी मर जाना, मुहावरा होश न रहना जब थानेदार हंटर लिए आता है तब हवालात में पड़े अपराधी की नानी मर जाती है। 
नाव में धूल उड़ाना, मुहावरा व्य र्थ बदनाम करना उसके बारे में सब जानते हैं, तुम बेकार नाव में धूल उड़ाते हो। 
निन्याानबे के फेर में पड़ना, मुहावरा पैसा जोड़ने के चक्केर में पड़ना हाय पैसा, हाय पैसा करते आम लोग आजकल निन्यावनबे के फेर में पड़े हैं। 
नीचा दिखाना, मुहावरा हराना  तुम हमारे उम्मीादवार को कभी नीचा नहीं दिखा सकते हो। 
नीला-पीला होना, मुहावरा गुस्साा होना ज़रा सी गलती पर वहनोकर पर नीला-पीला हो गया। 
नौ दो ग्यातरह होना, मुहावरा भाग जाना लोगों को देखते-देखते वह नौ दो ग्याारह हो गया। 
पंख न मारना, मुहावरा पहुँच न होना वहॉं कोई नहीं जा सकता। चिडि़या तक पंख नहीं मार सकती है। 
पगड़ी उछालना, मुहावरा बेइज्जउत करना किसी की पगड़ी उछालोगे तो पिट जाओगे। 
पगड़ी बदलना, मुहावरा पक्की  मित्रता होना देवरात और बलदेव ने पगड़ी बदली। 
पगड़ी रखना, मुहावरा इज्जीत बचाना इस समय मेरी पगड़ी रखलो नहीं तो मैं कही का भी नहीं रहूँगा ।
पटरी बैठना, मुहावरा मन मिलना/अच्छेो संबंध होना वह स्वाार्थी आदमी है। किसी से उसकी पटरी नहीं बैठती है। 
पट्टी पढ़ाना, मुहावरा बुरी सलाह देना बहू, अब मूँह पर जवाब देने लगी है , किसी ने पट्टी पढ़ा दी है। 
पत्तास काटना, मुहावरा संबंध समाप्तत कर देना इस सभा से उसका पत्तात ही काट दिया गया है। 
पत्थभर की लकीर होना, मुहावरा बात पक्की  होना मैं जो वचन दे रहा हूँ उसे पत्थ र की लकीर समझो। 
परछाई न पड़ना, मुहावरा पहुँच न हो सकना इस किले में किसी की परछाई तक नहरं पड1 सकती है। 
पनक पाँवड़े बिछाना, मुहावरा  आदर से स्वा गत करना बरात की प्रतीक्षा में वे लोग पलक पॉंवड़े बिछाए खड़े थे। 
पलक लगना, मुहावरा नींद आ जाना दोपहर में खाने के बाद थोड़ी पलक लग जाती है। 
पल्ला पकड़ना, मुहावरा सहारा लेना अब तो पल्लाा पकड़ लिया है । काम बन जाएगा। 
पसीना-पसीना होना 1 बहुत थक जाना 2 शर्मिंदा होना 1 बैठक की सफाईकरते –करते पसीना-पसीना होगया हूँ।             2 मॉं ने लड़के को मिठाई चुराते डॉंटा तो वह पसीना-पसीना हो गया।
पहाड़ टूट पड़ना, मुहावरा भारी विप्त्ति  आ जाना मिल में आग लग गई , यह सुनकर सेठजी पर मानो पहाड़ टूट पड़ा।
पहाड़ से टक्क र लेना , मुहावरा बुहत भारी आदमी से मुकाबला करना चुनाव में रामदेव सेठ घनश्याम दास के विरूद्ध खड़ा है ,पहाड़ से टक्क र लेने के लिए। 
पॉंचों उँगलियॉं घी में, मुहावरा लाभ ही लाभ होना आजकल शेयर दलालों की पॉंचों उँगलियॉं घी में हैं।
पाँव उखड़ना, मुहावरा हार कर भाग जाना 1971 के युद्ध में भारतीय सेनाओं के प्रवेश करने केसाथ ही पाकिस्ता नी सैनिकों के पैर उखड़ गए। 
पॉंव फूँक-फूँक कर रखना, मुहावरा सावधानी से कार्य करना व्याापार हो चाहे उद्योग पॉंव फूँक-फूँक कर रखना चाहिए। 
पानी का बुल –बुला होना , मुहावरा क्षणभगुर होना आदमी बुलबुला है पानी का। 
पानी –पी-पी कर कोसना, मुहावरा गालियॉं बकते जाना जरा सा बिगाड़ हो गया पर लाला पौकरों को पानी पी5पी कर कोसता रहा। 
पानी फेर देना, मुहावरा बिगाड़ देना तुम्ने  तो मेरी सारी मेहनत पर पानी फेर दिया। 
पापड़ बेलना, मुहावरा बेकार जीवन बीताना दो साल दिल्लीत में रहे कुछ भी नहीं सीखा। क्याि पापड़ बेलते रहे। 
पुट्टे पर हाथ न रखने देना, मुहावरा पास न फटकने देना घोड़े को कैसे सिधाया जा । यह तो पुट्टे पर हाथ ही नहीं रखने देता है। 
पेट काटना, मुहावरा अपने ऊपर थेड़ा खर्च करना अपना पेट काट कर बाप ने बेटे को बी.ए. तक शिक्षा दिलवाई।  
पेट का हल्का , मुहावरा बात को अपने तक न रख सकनेवाला उसे यह यह भेद न बताना। वह पेट का हल्काह है। 
पेट पर पट्टी वॉंधना, मुहावरा भूखा रह जाना बेचारे के पास खाने को कुछ नहीं था। पेट पर पट्टी बॉंधकर सो रहा है। 
पेट में चूहे दौड़ना, मुहावरा भूख लगना कुछ खाने को दो। पेट में चूहे दौड़ रहे हैं। 
पैरों तले जुमीन खिसकना/निकलना/सरकना , मुहावरा होश उड़ जाना रँगे हाथ पकड़े जाने पर मनोहर के पैरों तले ज़मीन खिरक गई।
पैरों पर खड़ा होना, मुहावरा स्वांवलम्बीप होना बाप को संतोष है कि बेटा पैरों पर खड़ा हो गया। 
पैरों में मेहंदी लगाकर बैठना, मुहावरा कहीं जा न सकना कहीं जाते –वाते नहीं । क्याा पैरों में मेहन्दीस लगाकर बैठे रहते हो। 
पौ बारह होना, मुहावरा खूब लाभ होना सुना है कि उसकी शादी बड़े अमीर घर में होनवाली है। अब तो उसके पौ बारह हैं।
प्राणों पर आ बनना, मुहावरा संकट में पड़ना डाकू फाटक तोड़कर अन्द र घुस रहे हैं। अब तो प्राणों पर आ बनी है।
प्राणों पर खेलना, मुहावरा प्राणों की बाजी लगा देना हमारे जवान प्राणों पर खेलकर शुत्रसेना पर टूट पड़े। 
फट पड़ना, मुहावरा एक दम गुस्से, में हो जाना बापू कई दिनों से नाराज था। आज न जाने क्याट हुआ कि फट पड़ा।
फावड़ा चलाना, मुहावरा मेहनत का काम करना थक कैसे गए । क्या  फावड़ा चलाते रहे हो। 
फूलकर कुपपा होना, मुहावरा बहुत खुश या नाराज होना वह कुछ भी कहता है जो यह फूलकर कुप्पाे हो जाती है। 
फूल झाड़ना, मुहावरा प्रिय वचन बोलना महापुरूषों के मुख से हमेशा फूल ही झड़ते हैं। 
बंदर घुड़की / भभकी, मुहावरा प्रभावहीन धमकी  तुम्ावहीरी बंदर घुड़की की हम परवाह नहीं करते हैं। 
बखिया उधेड़ना, मुहावरा भेद खोलना तुम मेरे साथ मत उलझा करो नहीं तो तुम्हापरा बखिया उधेड़ कर रख दूँगा। 
बच्चोंर का खेल , मुहावरा सरल काम दिलली जैसे शहर में बस चलना कोई बच्चोंु का खेल नहीं है। 
बछिया का ताऊ, मुहावरा मूर्ख कुछ समझते भी हो या नहीं बिलकुल बछिया के ताऊ हो। 
बट्टा लगना, मुहावरा कलंक लगना ऐसा काम मत करो जिससे बाप दादा के नाम पर बट्टा लगे। 
बड़े घर की हवा खाना, मुहावरा जेल जाना बाज आ जाओ नहीं तो बड़ेू घर की हवा खाओगे तो अक्लग आ जाएगी।
बत्ती सी खिलना, मुहावरा हँसी आना बच्चेआ की तोतली भाषा सुनकर माँ की बत्तीगसी खिल जाती है। 
बत्तीआसी बंद होना, मुहावरा चुप हो जाना मैंने दो सुनाई तो उसकी बत्तेहसी बंद हो गई। 
बरस पड़ना, मुहावरा अति क्रुद्ध होकर डॉटना चाय का प्या ला उलट गया जो साहब नौकर पर बरस पड़े। 
बल्लियों / बासों उछलना, मुहावरा बहुत खुश होना प्रतियोगिता में द्वितीय आने पर वह बल्लियों उछलने लगा। 
बाऍं हाथ का खेल , मुहावरा अति सरल कार्य  कविता करना तो उसके बाऍं हाथ का खेल है। 
बाछें खिल जाना, मुहावरा अत्यंन्तक प्रसनन होना पास होने की खबर आई तो लड़के की बाछें खिल गई। 
बाज़ार गर्म होना, मुहावरा तेजी होना आजकल अफवाहों का बाजार गर्म है।  
बात का धनी होना, मुहावरा वचन का पकका होना राजा हरिशचन्द्रा बात के धनी थे। 
बात की बाम में, मुहावरा तुरंत बात की बात में वह झगड़े पर उतर आया। 
बात तक न पूछना, मुहावरा आदर न करना मैं उसके घर गया पर उसने बात तक न पूछी। 
बाल की खाल उतारना, मुहावरा अनावश्यखक विवाद करना कुछ लोग हर बात में बाल की खाल दतारते हैं। 
बाल बॉंका न कर सकना, मुहावरा कुछ भी हानि न पहँचा सकना ईश्वभर के भक्तन का कोई बाल भी बॉंका नहीं कर सकता है। 
बालू से तेल निकालना, मुहावरा असम्भसव को सम्भनव करना उस कंजूस से दान करवाना बालू से तेल निकलवाने के सामान है। 
बासी कढी में उबाल आना, मुहावरा अचित समय पश्चाबत इच्छाे जागना बुड्ढे को शादि करने का शौक चर्राया है , यानी बासी कढ़ी में उबाल आया है। 
बिलली के गले में घंटी बॉंधना, मुहावरा अपने को संकट में डालना प्रधानाचार्य से जाकर कोई नहीं कहेगा सही है बिल्लीा के गले में घंटी कौन बॉंधेगा। 
बेपेंदी का लोटा, मुहावरा ढुलमुल कोशिश / अस्थिर विचारों वाला कुछ यूनियन लीडर बेपेंदी के लोटे होते हैं।
बेसिर पैर की हॉंकना, मुहावरा ऊल जलूल बातें करना बेसिर पैर की मत हॉंको । इस आरोप को सिद्ध करने के लिए तुम्हासरे पास क्यार प्रमाण है। 
भगीरथ प्रयत्नम , मुहावरा भारी कोशिश  उसको मनाने के लिए हमें भगीरथ प्रयत्नम करना पड़ा। 
भाड़ झोकना, मुहावरा समय व्यकर्थ खोना दो साल दिल्ली  में रहे कुछ भी नहीं सीखा। क्या़ वहॉं भाड़ झोकते रहे।
भाड़े का टट्टू , मुहावरा पैसे लेकर ही काम करनेवाला भाड़े का टट्टू है पैसा दो तो काम करेगा नहीं तो वह देखेगा भी नहीं।
भिड़ के छत्तेू को छेड़ना, मुहावरा चिड़चिड़े आदमी को चिढाना उस क्रोधी आदमी को तुमने क्या  कह दिया कि गालियॉं बके जा रहा है। अरे भिड़ के छत्तेन को नहीं छेड़ना चाहिए।   
भीगी बिल्ली़ बनना, मुहावरा सहम जाना प्रधानाचार्य के सामने बड़े –बड़े उपद्रवी लड़के भी भीगी बन जाते हैं। 
भेडि़या धसान, मुहावरा अंधानुकरण गॉंव के लोगों में भेडिया धसान के बहुत उदाहरण मिलते हैं।
भैंस के आगे बीन बजाना , मुहावरा नासमझ आदमी को उपदेश देना गँवार आदमी को उपनिषदों की बातें बताना भैंस के आगे बीन बजाना है।
मक्खियॉं मरना , मुहावरा बेकार रहना दिन भर क्यान करते रहते हो। बसृ मक्खियॉं मारते रहते हो। 
मक्खीर नाक पर न बैठने देना, मुहावरा इज्जवत खराब न होने देना वह अत्यकन्तन स्वासभिमानी व्यरक्ति है, मक्खी  नाक पर बैठने नही देता है। 
मज़ा किरकिरा  होना, मुहावरा आनन्दक में विघ्नो होना अच्छेक –भले खेल रहे थे कि बिजली गायब हो गई । सारा मज़ा किरकिरा हो गया।
मन के लड्डू (मनमोदक) खाना, मुहावरा कल्पेना करके प्रस्न्ने होना सौचता था कि काम करूँगा तो हज़ारों कमाऊँगा, शादी होगी , बाल बच्चे  होंगे- इस तरह मन के लड्डू खाता रहता था। 
मन मैला करना, मुहावरा खिन्नल होना  मैंने तुम्हानरे हित में ऐसा कहा था लेकिन तुमने बुरा मान लिया और मन मैला कर लिया। 
माथा ठनकना, मुहावरा संशय होना जब उसने बताया कि उसका लड़का भाग गया है तो मेरा माथा ठनका कि दाल में कुछ काला है। 
मिट्टी का माधो, मुहावरा बुद्धू  उसकी समझ में कुछ नहीं आयेगा । है ही वह मिट्टी का माधो। 
मिठी छुरी चलाना, मुहावरा विश्वाुसघात करना इसकी बातों में नआना, मिठी छुरी चलाकर ठग लेता है। 
मुँह उतरना, मुहावरा उदास हो जाना जब पिता ने डॉंट कर कहा कि तुम मेले में नहीं जा सकते तो उसका मुँह उतर गया। 
मुँह की खाना, मुहावरा बुरी तरह हारना तीनों युद्धों में पाकिस्ताहन को मुँह की खानी पड़ी। 
मुँह धो रखना/आना, मुहावरा आशा न रखना मुँह धो रखो, मैं तुम्हें  एक कौड़ी भी नहीं दूँगा। 
मुँह पकड़ना, मुहावरा बोलने न देना तुमने अपनी बात क्यों  नहीं कही/ मैंने कोई तुम्हागरा मुँह पकड़ लिया था। 
मुँह पर बसंत फूलना या खिलना, मुहावरा भयभीत होना जब रात में ज़रा–सी आहट सी आहट होती है, तो चोरी की आशंका से उसके मुँह पर बसंत फूलना नज़़र आता है। 
मुँह बनाना, मुहावरा खीझ प्रकट करना उसे कुछ कहते ही वह मुँह बना लेता है। 
मुँह में पानी भर आना/लार टपकाना, मुहावरा खाने को जी करना जलेबियॉं देखकर मेरे भी मुँह में पानी भर आया। 
मुट्ठी गकरना करना, मुहावरा धूस देना बाबू या अधिकारी की मुट्ठी गर्म किए बिना यह काम नहीं हो सकता है।
मैदान मारना, मुहावरा लड़ाई जीतना पानीपत की लड़ाई में पठानों ने मैदान मार लिया था। 
मुट्ठी में करना, मुहावरा वश में करना सास ने बहू को मुट्ठी में कर रखा है। 
मोटा आदमी/असामी, मुहावरा धनी व्यमक्ति व्यावपारी को मोटे आदमी/असामी से ज्या दा लगाव होता है। 
मोहर लगा देना, मुहावरा पुष्टि करना उसने अपने कथन में मेरी बात पर मोहर लगा दी। 
म्या ऊँ का ठौर पकड़ना, मुहावरा खतरे में पड़ना ज़बानी जमा खर्च तो सब कर सकते हैं लेकिन म्यामऊँ का टौर कौन पकड़ेगा। 
रंग बदलना, मुहावरा परिवर्तन होना ज़माने का रंग बदलरहा है। लोग स्वेर्थी और लालची होते जा रहे हैं।
राई का पहाड़ बनाना, मुहावरा जरा सी बात का बतंगड़ बनाना खत्मस करो इस ण्गनड़े को । तुमने तो राई का पहाड़ बना दिया है। 
रास्ता  देखना, मुहावरा प्रतीक्षा करना तुम्हा्रा रास्ताग देखते –देखते ऑंखें पथरा गईं। 
रास्ता् नापना, मुहावरा चले जाना अब माफ करो और अपना रास्ता  नापों। 
रास्ते  पर लाना , मुहावरा सुधार करना इस बिगड़े लड़के को कोई रास्ते  पर ला दे। तो अहसान मानूँगा । 
रोऍं सा रोगंटे खड़े होना, मुहावरा रोमांच होना सैनिक की आपबिती सुनकर सबके रोंगटे खड़े हो गए। 
रो धोकर दिन काटना, मुहावरा जैसे –तैसे जीवन बीताना विधवा बिचारी रो-धोकर दिन काटती है। 
लंगर –लंगौट कसना, मुहावरा लड़ने को तैयार होना मनोहर सदैव लंगर-लंगौट कसे तैयार रहता है। 
लंगोटिया यार, मुहावरा धनिष्ठय मित्र  संतोष और कपिल लंगोटिया यार हैं। 
लंगोटी में फाग खेलना, मुहावरा दरिद्रता में आनन्दग लूटना विरले ही लँगोटी में फाग खेल सकते हैं बाकी तो हमेशा चिंतित रहते हैं। 
लकीर का फकीर होना, मुहावरा पुराने रीति-रिवाजों का अनुसरण करना इस युग में भी कई शिक्षित लोग लकीर के फकीर बने हुए हैं। 
ललाट में लिखा होना, मुहावरा भाग्यम में बदा होना ललाट में लिखे को कौन मिटा सकता है।
लल्लोम-चप्पों  करना, मुहावरा चिकनी-चुपड़ी बाते करना लल्लोंे-चप्पों  करके वह बाबू साहब से अपना काम करवा लेूता है। 
लहू के ऑंसू पीना, मुहावरा दुख सह लेना वह लहू के ऑंसू पीकर रह गया । सी तक नहीं की। 
लाख का घर राख होना, मुहावरा धनी का निर्धन हो जाना जुए और शराब में उसका लाख का घर राख हो गया। 
लाल – पीला होना, मुहावरा बहुत गुस्सा  होना लाल –पीला होकर मेरा क्यार बीगाड़ोगे।अपी ही दशा खराब करोगे। 
लिफाफा खुल जाना, मुहावरा भेद खुल जाना यह बात अपने तक रखना। लिफाफा खुल गया तो तुम्हाहरा नुकसान हो जाएगा। 
लुटिया डूबोना, मुहावरा काम खराब कर देना यह क्याब किया। तुमने तो खानदान की ही लुटिया डूबो दी। 
लेने के देने पड़ना, मुहावरा लाभ की जगह नुकसान होना जो मैं देता हॅू । ले लो अन्य था लेने के देने पड़ जाऍंगे। 
लोहा मानना, मुहावरा श्रेष्ठनता स्वीमकार करना क्रिकेट में सभी लोग सचिन का लोहा मानते हैं। 
लोहा लेना, मुहावरा लड़ाई करना उस शूरवीर से लोहा लोगे तो जान गवॉं बैठोगे।  
लोहे के चने चबवाना, मुहावरा बुरी तरह हराना मेरे साथ लड़ाई की तो उसे लोहे के चने चबवा दूँगा। 
विष की गॉंठ, मुहावरा उपद्रवी,खोटा उससे बच के रहना बिष की गॉंठ है। 
विष घोलना, मुहावरा गड़बड़ पैदा करना भाइयों में अच्छेब भले संबंध थे। इस बहू ने आकर विष घोल रखा है।
शान में बट्टा लगना, मुहावरा शान घटना यह कार्य कर तुमने अपनी शान में बट्टा लगवा दिया। 
शीशे में मुँख देखो, मुहावरा अपनी योग्युता- अयोग्याता को समझो 10 वी तो पास नहीं किया और चले हैं चॉंद पर जाने- शीशे में मुँहदेख लो। 
शैतान की ऑंत, मुहावरा लम्बी  बात यह कहानी है कि शैतान की ऑंत जो खत्मह ही नहीं होती। 
शैतान के कान कतरना/काटना, मुहावरा बहुत चालाक होना वह छोटा लड़का बदमाशी में शैतान के कान काटता है। 
श्री गणेश करना, मुहावरा आरम्भग करना विवाह की रस्मोंर का श्री गणेश आज से हो रहा है। 
संसार से उठना/विदा होना, मुहावरा मर जाना बड़े-बड़े लोग संसार से उठ गए आज उनका नाम तक कोई नहीं जानता। 
सफेद झूठ, मुहावरा बिलकुल झूठ  कहीं शेर औरगाय एक साथ रह सकते हैं यह तो सफेद झूठ है। 
सब्ज़श बाग दिखाना, मुहावरा अच्छीश बातें कह कर बहकाना हम जानते हैं वहॉं कुछ भी नहीं है फिर तुम क्योझ हमें सब्ज़ी बाग दिखा रहे हो। 
सॉंचे में ढला होना, मुहावरा रूपवान होना दुल्हनन क्याु है सॉंचें में ढली गुडि़या है। 
सॉंप को दूध पीलाना, मुहावरा  बुरे के साथ नेकी करना तुम उस नीच आदमी की मदद करके सॉंप को दूध पीला रहे हो। 
सॉंप छछूंदर की गति होना, मुहावरा असमंजस की दशा होना घर की लड़ाई में किसका पक्ष लूँ । मेरी तो सॉंप छछूंदर की गति होगई है।  
सॉंप सूँघ जाना, मुहावरा गुपचुप हो जाना पुलिस के आते ही सबको सॉंप सुंघ गया । 
सात घाट का पानी पीना/ घाट –घाट का पानी पीना, मुहावरा व्याघपक अनुभव होना वह व्या पासर में सफल है । लगता है उसने घाट-घाट का पानी पिया है। 
सिंदूर चढ़ना , मुहावरा लड़की का विवाह होना पिछले हप्तेव ही मेरी छोटी लड़की की मॉंग में सिंदूर चढ़ गया।
सिट्टी-पिट्टी गुम हो जाना, मुहावरा होश उड़ जाना पिताजी ने ऑख दिखाई तो सारी सिट्टी-पिट्टी गुम हो जाएगी। 
सिर उठाना, मुहावरा विरोध करना सामंत सदैव बादशाह के खिलाफ सिर उठाते रहते थे। 
सिर गंजा करना, मुहावरा बुरी तरह पीटना याद रखो बहुत हेकड़ी दिखाओगे तो सर गंजा कर दूँगा।
सिर पर कफ़न बॉंधना, मुहावरा बलिदान देने के लिए तैयार होना देश के हजारों नवजवान सिर पर कफ़न बॉंधकर स्वूतंत्रता संग्राम में कूदपड़े थे। 
सिर पर खून सवार होना, मुहावरा मरने -मारने पर उतारू होना उसके सिर पर खून सवार था, तुम छिप नहीं जाते तो वइ तुम्हेा मार देता। 
सिर पर पॉंव रखकर भागना, मुहावरा तुरंत भाग जाना पुलिस को देखते ही चोर सिर पर पॉंव रखकर भाग गया। 
सिर पर भूत सवार होना, मुहावरा धुन लग जाना उसके सिर पर तो मुम्बिई जाने का भूत सवार है। 
सिर पर सवार रहना, मुहावरा पीछे पड़ना अरे भाई। कुछ अपना भी काम करो । हर वक्ते मेरे सिर पर सवार क्योभ रहते हो। 
सिर मुंड़ाते ओले पड़ना, मुहावरा काम शुरू होते ही बाधा आना राम ने मकान की नींव खुदावाई ही थी कि नगर पालिका ने काम रोक दिया। उसके तो सिर मुड़ाते ही ओले पड़ गए।  
सींग कटाकर बछड़ों में मिलना, मुहावरा बूढ़े होकर भी बच्चोा जैसा काम करना इस उम्र में उसे गुल्ली डंडा खेलने का शोक हो गया है। लगता है सींग कटाकर बछड़ों मे मिलना चाहता है। 
सुबह –शाम कटना, मुहावरा टालमटोल करना  मकान मालिकआते हैं तो सुबह शम करते हो । किराया क्यों  नहीं दे देते हो। 
सुई की नोक के बराबर, मुहावरा ज़रा सा  दुर्योधनने साफ कह दिया था कि वह पांडवों को सुईकी नोक के बराबर भी भूमि नहीं देगा। 
सूख कर कॉंटा होना , मुहावरा बहुत दुर्बल होना चार दिन के बुखार से ही वह सुखकर कॉंटा हो गया। 
सूुखी धान पर पानी पड़ना, मुहावरा दशा सुधरना बेचारे मुसीबत के दिन काट रहे थे । लड़के की नौकरी लगी तो सूखे धान पर पानी पड़ा। 
सूरज को दीपक दिखाना, मुहावरा प्रसिद्ध व्य क्ति का परिचय देना आप लोगों के सामने उनके बारे में कुछ बताना सूरज को दीपक दिखाना है। 
सेमल का फूल होना, मुहावरा दिखावटी रूप से धोखा होना ऊपर से भोली –भोली शक्लु वाले वास्तसव में सेमल के फूल हो सकते हैं। 
सोने की चिडिया हाथ से निकल जाना, मुहावरा लाभदायक वस्तु  का खो जाना अच्छीय सस्तीत एक मोटरकार मिल रही थी। किसी ने ज्याूदा रकम देकर खरीद ली और ,सें, सोने की चिडिया हमारे हाथ से निकल गई। 
हँसी खेल समझना, मुहावरा साधारण काम समझना घोड़े को साधना क्याी तुम हँसी –खेल समझते हो। 
हजामत बनाना, मुहावरा लूटना एक ठग ने गाड़ी में मेरी हजामत बना दी। 
हजामत बनाना, मुहावरा पीटना अपने को बहुत समझता था, पर मैंने उसकी खूब हजामत बनाई। 
हथियार डालना,मुहावरा हार मान लेना हमारी सेना ने शत्रु को खरों ओर से घेर लिया तो उन्हों ने हथियार डाल दिए।
हथेली खुजलाना,मुहावरा कुछ धन मिलने को होना कई दिन से मेरी हथेली खुजला रही है पर अभी तक एक भी पैसा कहीं से नहीं मिला है। 
हथेली पर सरसों उगाना/जमाना,मुहावरा शीघ्रताशीघ्र काम कर देना इस काम कें कुछ घंटे लगेंगे।यह नहीं हो सकता कि हथेली पर सरसों उगा /जमा दें। 
हथेली पर जान लिये फिरना,मुहावरा मरने की परवाह नहीं करना ये स्वीयंसेवक हथेली पर अपनी जान लिय काम करते हैं । 
हवाइयॉं छूटना,मुहावरा रंग उड़ जाना बच्चाड नत्थूम से बहुत डरता है। वह सामने आ जाता है तो इसके हवाइयॉं छूटने लगती हैं। 
हवाई किले /महल बनाना,मुहावरा मात्र कल्पटना करते रहना उसे कुछ करना-धरना नहीं आता है बस हवाई किले या महल बनाता रहता है। 
हवा के घोड़े पर सवार होना,मुहावरा आने –जाने की जल्दीन मचाना अभी आए, अभी चले जाने को कह रहे हो, हवा के घोड़े पर सवार रहते हो क्याघ। 
हवा लगना,मुहावरा प्रभाव पड़ना रोज़ नया फैशन करता है। इसे भी नए जमाने की हवा लग गई है। 
हवा से बातें करना,मुहावरा तेज चलना घोड़े की चाल देखो। हवा से बातें करता है। 
हवा हो जाना,मुहावरा भाग जाना, न रहना चोर एक मुसाफिर की गठरी मारते ही हवा हो गया। 
हाथ उठाना,मुहावरा मारने को तत्परर होना बच्चोंक और औरतों पर हाथ नहीं उठाना चाहिए। 
हाथ डालना,मुहावरा षुरू करना पहले यह काम समाप्त  करूँगा तभी नये काम में हाथ डालूँगा। 
हाथ पसारना या फैलाना,मुहावरा मॉंगना भूँखा मर जाऊँगा पर किसी के आगे हाथ नहीं पसारूँगा। 
हाथ –पॉंव फूल जाना,मुहावरा डर से घबराना जाना डाकुओं की ललकार से गॉंव के लोगों के हाथ-पॉंव फूल गए। 
हाथ पीले कर देना,मुहावरा लड़की की शादी कर देना छोंटी लड़की के हाथ पीले कर गंगा नहायेंगे। 
हाथ –पैर मारना,मुहावरा कोशिश करना बेचारे ने कई जगह ळाथ –पैर मारे पर नौकरी नहीं लगी। 
हाथ मलना या मलते रह जाना,मुहावरा कुछ प्राइज़ न होना जाल में फँसा कबूतर ताल सहित उड़ गया और बहेलिया हाथ मलता रह गया।  
हाथ मारना,मुहावरा छीन लेना चोर ने तिज़ोरी पर ऐसा हाथ मारा कि कुछ भी नहीं बच पाया। 
हाथ लगना,मुहावरा प्राप्ता होना समुद्र में गोते लगाने पर गोताखोर के हाथ बहुमुल्य  मोती लग गया। 
हाथ साफ करना,मुहावरा बेईमानी से लेना उसने सारे माल पर हाथ साफ़ कर लिया , अब रह ही क्या  गया है। 
हाथों के तोते उड़ जाना,मुहावरा  होश –हवाश जाते रहना लड़के की गिरु्तारी वारंट देखते ही बाप के हाथों के तोते उड़ गए। 
हाल पतला होना,मुहावरा दयनीय दशा होना व्यायपार में घटा पड़ता रहा । इससे आजकल उसका हाल पतला है। 
हिन्दीय की चिन्दीर निकालना,मुहावरा बात की तह् तक पहुँचना इस मामले को यहीं ठन कर दो। हिन्दीह की चिन्दी  निकालने से बिगाड1 होना। 
हीरे की कनी चाटना,मुहावरा प्राणनाशपक कार्य करना ये नौजवान जो बम बानाने में लगे हैं। हीरे की कनी चाटने का काम करते हैं। 
हुलिया तंग होना,मुहावरा पेरशान होना इस नालायक लड़के के मारे हमारा हुलिया तंग है। 
हुलिया बिगाड़ देना,मुहावरा दुर्गत करना बाज़ नहीं आओंगे । जो याद रखो, तुम्हाीरा हुलिया बिगाड़ दूँगा। 
होश सम्हा लना,मुहावरा सयाना होना  जब से होश सम्हा ला है, घर में झगड़ा ही देखता आ रहा हूँ।

4 टिप्‍पणियां: